HomeHow ToGST किस product चीज पर कितना TAX जानिए GST का Rate Card...

GST किस product चीज पर कितना TAX जानिए GST का Rate Card in हिंदी

GST किन किन चीजो पर लगेगा और किस product पर कितना TAX लगेगा.

Authority के अधिकार=( company को product के दाम घटाने और penalty का आदेश दे सकती है)

GST में कम Tax का लाभ ग्राहक को नहीं दिया तो रद्द हो सकता है registration

खरीदार को 18 % ब्याज के साथ पैसे वापस मिलेंगे

GST किन किन चीजो पर लगेगा और किस product पर कितना TAX लगेगा? GST कानून के तहत मुनाफाखोर रोकने के लिए जो अथॉरिटी बनेगी उसे कंपनी का रजिस्ट्रेशन रद्द करने का अधिकार होगा company tax में कमी का फायदा ग्राहकों को नहीं देती है तो अथॉरिटी उसके खिलाफ यह कदम उठा सकती है National anti prophet ईयररिंग ऑथोरिटी कंपनी को product या service के दाम घटाने ग्राहकों को 18 percent ब्याज के साथ पैसे लौटाने और पेनल्टी का भी आदेश दे सकती है।

अथॉरिटी को खुद किसी के खिलाफ कार्यवाही का अधिकार नहीं होगा। हर राज्य में स्क्रीनिंग कमेटी बनेगी जो लिखित शिकायत तुम पर विचार करेगी वह 2 महीने में फैसला करेगी। वह 2 महीने में फैसला करेगी कमेटी को शिकायत सही मिली मुकेश आगे की जांच के लिए director general of safeguards ( DGS) को बेचा जाएगा-GST bill क्या है GST TAX के क्या फायदे होगे और यह कैसे काम करता है

किसी company management को पूछताछ के लिए बुलाने का अधिकार होगा।(DGS) authority को report देगा। अथॉरिटी 3 महीने में जांच पूरी करेगी। पांच सदस्यों वाली अथॉरिटी का फैसला बहुमत से होगा। कंपनियां किस का आदेश मानने को बाध्य होंगी। अथॉरिटी के chairman की salary 2.25 लाख रुपए और मेंबरों की 2.05 लाख रुपए प्रतिमाह होगी। भत्ते भी मिलेंगे।

चिकित्सा उपकरण महंगे होंगे इसलिए इलाज के लिए लगेंगे ज्यादा पैसे

जीएसटी में कई चिकित्सा उपकरणों पर tax rate 2- 4 फ़ीसदी बढ़ जाएगा। इससे लोगों के लिए इलाज करना पड़ा महंगा हो सकता है। हालांकि असर ज्यादा नहीं होगा। गौरतलब है कि जीएसटी में जीवन रक्षक दवाओं पर 5% और बाकी ज्यादातर दवाओं पर 12% टैक्स तय किया गया है। surgical equipment पर भी 12 % tax rate लगेगा।

क्या GST से दाम बढ़ेंगे और कम घटिया Quality के Product बढ़ेंगे

GST में हेलमेट पर 18 पर्सेंट टैक्स लगाया गया है। कंपनियों की एसोसिएशन ‘इसिहमा’ का कहना है कि इतने टैक्स से हेलमेट महंगे हो जाएंगे। अभी 12.5 पर्सेंट एक्साइज और वेट 0-14.5% तक लगता है। एमआरपी पर 35% अबेटमेंट है।
दाम बढ़ने से लोग सस्ती और खराब क्वालिटी के हेलमेट खरीदेंगे। इससे असंगठित क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा।

कपड़े (कोटन, वूलन, सिल्क) textile पर असर positive

नई लॉजिस्टिक कंपनी के लिए GST registration जरूरी है बिजनेस एक ही राज्य में होगा और कस्टमर को ट्रक सर्विस देना होगा

चूरन गोली, mouth fresher पर कितना Tax लगेगा

Goods transport agency के रूप में काम करना चाहते हैं तो यह रिवर्स चार्ज मेकैनिज्म में आएगा। आपको tax नहीं देना पड़ेगा, इसलिए registration जरूरी नहीं। लेकिन इसके साथ loading- unloading services भी देते है तो उस पर जीएसटी देना पड़ेगा। तब रजिस्ट्रेशन जरूरी है।

साइकिल और उसके Parts पर GST टैक्स कितना देना पड़ेगा?

अगर आपका साइकिल का बिजनेस है तो इसके पार्ट्स पर 12% टैक्स तय किया गया है। साइकिल टायर पर 5% टैक्स लागू होगा।
इसके साथ ही मनुष्य के बाल (ह्यूमन हेयर) पर GST में Tax नहीं लगेगा।
इसके साथ ही आपको पता होना चाहिए कि हर महीने कितनी रिटर्न भरनी होगी हर दुकानदार को laptop या computer रखना जरूरी नहीं है।

क्योंकि हर महीने तीन return भरने पड़ेंगे जिनमें 2 ऑटो- पॉपुलेट होंगे। आपको सिर्फ मिलान के बाद ओके करना होगा। return filing online होगी। लेकिन इसके लिए जरुरी नहीं कि कंप्यूटर हो। आप मोबाइल पर भी offline tool download कर सकते है। एक महीने बाद उसी रिटर्न के रूप में upload किया जा सकेगा।

इनके अलावा सोलर इनवर्टर का जिनका बिजनेस है उनके लिए सोलर इंवर्टर, पैनल, सेल, PCU पर 5% टैक्स है। बैटरी और स्ट्रक्चर पर 18% की दर से टैक्स लगेगा। solar products में पावर पैक, वाटर हीटर, स्ट्रीट लाइट ओर सोलर पंप सब पर 5% की दर से टैक्स लगेगा।

इनके अलावा कॉस्मेटिक्स पर Tax 14.5 % से बढ़ाकर 28% किया गया है। 1 जुलाई से आप जो भी बेचोगे उस पर कौन सा टैक्स लग सकता है,अगर आप टैक्स 28 % लेते हैं तो दाम MRP से ऊपर चला जाएगा। और अगर मार्जिन 8 से 10% होता है तो ऐसे मै आपको नुकसान होगा। इसमें अगर आप पेट में रजिस्टर्ड है तो वेट क्रेडिट पूरा मिल जाएगा। GST में products पर 28% Tax है। तो आपको उसी हिसाब से tax जमा करना पड़ेगा। मार्जिन गेप को देखते हुए आपकी बात सही लग रही है कि नुकसान हो सकता है।

इसके अलावा अगर आप name प्लेट बनाते हैं तो कच्चा माल मेटल शीट Local market से ऐसे व्यापारियों से खरीदते हैं जो पक्का Bill नहीं देती तो GST कानून के तहत आप unregistered व्यक्ति से goods खरीदते हैं तो reverse charge mechanism के तहत आपको TAX चुकाना होगा। product बेचते वक्त जो tax liability बनेगी, उसमें से reverse charge में चुकाए गए tax का credit मिल जाएगा।

इसके अलावा जो भी व्यक्ति अपनी गाड़ी में 10 10 हजार के 6 बिल बनाकर अलग-अलग पार्टियों को देने जाता है तो उसे भी ई-वे बिल लेना पड़ेगा। क्योंकि गाड़ी में ₹50000 से ज्यादा का सामान है तो ई-वे(E-Way) बिल(Bill) जरूरी होगा। हालांकि इसका लागू होना अभी टल गया है। इसके नियमों को अभी अंतिम रुप नहीं दिया गया है।

अगर कोई company unregistered व्यक्ति से office के लिए सामान खरीदती है तो उस पर registration का दायित्व बनेगा, क्योंकि charge में Tax जमा कराना पड़ेगा और इसके लिए registration जरूरी है।

अगर आप चूर्ण गोली और mouth freshener बनाते हो और आपका टर्न ओवर 2500000 रुपए सालाना है तो उसे जीएसटी में माइग्रेट होना पड़ेगा migration के लिए विंडो 25 जून को खुल चुकी है, composition( टर्न ओवर 75 लाख रुपए तक) का विकल्प चुनते हैं तो मैन्यूफैक्चरर् के लिए turnover पर 2% टैक्स का प्रावधान है।
लेकिन अगर tambaku utpad और pan masala बनाने वाले कंपोजीशन का विकल्प नहीं चुन सकते।

छोटी किराना दुकान वालों के लिए GST Tax कितना होगा

अगर आपका सालाना बिजनेस 2 लाख रुपए से ज्यादा है तो GST registration जरूरी होगा अन्यथा नहीं, और अगर खुदरा ग्राहक ₹200 से कम का सामान खरीदना है और बिल नहीं लेना चाहता, तो ऐसे ग्राहकों के बदले दुकानदार पूरे दिन में एक इनवॉयस जनरेट कर सकता है-GST TAX kin kin cheejo par lgega, kin kin cheejo par nhi lgega, GST से हमारे लिए क्या फायदा है और medium logo ke liye kya kya fayda or nuksan hai आदि जानकारी इस post में बताया गया है | निचे comment में अपना सुझाव,राय दीजिये

Aman Kumawat
Aman Kumawathttps://howhindi.com
I'm the Founder of Howhindi.com. We provide daily information about Android mobile, computer, internet, Earn money, and Loan in Hindi.
RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here